बुधवार, 29 जनवरी 2020

वसन्त पञ्चमी को वृन्दावन के शाहजी मन्दिर में खुलेगा प्रसिद्ध बसन्ती कमरा

मन्दिरों की नगरी वृन्दावन के लगभग पाँच हजार मन्दिरों में से एक शाहजी मन्दिर का बसन्ती कमरा वसन्त पञ्चमी पर भक्तों के लिये खुलेगा। वसन्तोत्सव पर मन्दिर के विशेष कक्ष बसन्ती कमरे में विराजमान होकर ठाकुरजी राधारमण देव जू भक्तों को दर्शन देंगे। यह दर्शन भक्तों को वसन्त पञ्चमी के दिन और उसके अगले दिन यानि 30 और 31 जनवरी को होंगे। इस विशेष अवसर के लिये शाहजी मन्दिर को सजाया संवारा जाना कई दिन पूर्व से ही प्रारम्भ हो जाता है।

वृन्दावन स्थित शाहजी मन्दिर का प्रसिद्ध बसन्ती कमरा 
वृन्दावन के मन्दिरों में गुञ्जायमान होते भक्ति के स्वर देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं को भाव-विभोर कर देते हैं। इन मन्दिरों में विराजमान ठाकुरजी का प्रतिदिन होने वाला मनमोहक शृङ्गार और आरती की प्रस्तुति श्रद्धालुओं को बार-बार वृन्दावन खींच लाती है। शाहजी मन्दिर टेढ़े-मेढ़े खम्भा वाले मन्दिर के नाम से प्रसिद्ध है। इस मन्दिर में भक्तों के आकर्षण का केन्द्र बसन्ती कमरा है जो की वर्ष में केवल दो बार खुलता है।

ठाकुर राधारमण देव जू शाहजी मन्दिर में विराजित 


मन्दिर के सेवाधिकारी के.एस. गुप्ता ने बताया कि माघ मास में वसन्त पञ्चमी एवम् श्रावण मास में शुक्ल पक्ष त्रयोदशी और चतुर्दशी के दिन ठाकुरजी बसन्ती कमरे में दर्शन देते हैं। भगवान शाह बिहारी को ठाकुर राधारमण देव जू के नाम से भी भक्तजन जानते हैं। वर्षभर से बसन्ती कमरे में भगवान के दर्शन की बाँट जोह रहे श्रद्धालु वसन्त पञ्चमी के अवसर पर दर्शनों के लिये देश के कोने-कोने से वृन्दावन आते है।

सेवाधिकारी ने बताया कि वसन्त पञ्चमी पर भगवान के विशेष दर्शन की तैयारियां कई दिनों पूर्व शुरू हो जाती है, जिसमें मन्दिर के बसन्ती कमरे में लगे काँच के झूमर आदि सजावट के सामानों को साफ किया जाता है। मन्दिर पर रँग-बिरँगी रोशनी की झालरें लगाई जाती हैं व मन्दिर को गेंदे आदि विभिन्न प्रकार के फूलों से सजाया जाता है।

वसन्त उत्सव पर मन्दिर में दर्शन का समय-
30 जनवरी 2020 - प्रात: 10 से दोपहर 12.30 बजे तक एवम् शाम को 5 से 9 बजे तक
31 जनवरी 2020 - शाम को 5.30 से 8.30 बजे तक

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें