शनिवार, 15 फ़रवरी 2020

21 और 22 फरवरी को भस्म आरती के दर्शनों की ऑनलाइन बुकिंग बन्द रहेगी

उज्जैन स्थित श्री महाकालेश्वर मन्दिर में महा शिवरात्रि पर्व पर भक्तजन 2 दिन भस्म आरती के दर्शनों के लिये ऑनलाइन बुकिंग नहीं कर सकेंगे। महाकालेश्वर मन्दिर प्रशासन ने 21 और 22 फरवरी को ऑनलाइन बुकिंग बन्द कर दी है।

श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबन्ध समिति के सदस्य और मन्दिर के पुजारी पण्डित आशीष शर्मा ने बताया की शिव नवरात्रि महापर्व पर भगवान महाकालेश्वर की सेवा पूजा और मन्दिर व्यवस्था को देखते हुये 2 दिन के लिये ऑनलाइन बुकिंग बन्द कर दी गयी है। शिवरात्रि उत्सव की शुरुआत 13 फरवरी से हो गयी है। 9 दिन में भगवान श्री महाकालेश्वर की उपासना, तपस्या, और साधना के लिये शिव नवरात्रि महापर्व मनाया जाता है। इन 9 दिनों में भगवान अपने भक्तों को अलग-अलग स्वरूपों में दर्शन देकर उनकी मनोकामना पूर्ण करते हैं।

श्री महाकालेश्वर भस्मारती 


देश के 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में से एक उज्जैन का श्री महाकालेश्वर मन्दिर


देश के 12 प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में से एक मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर में श्री महाकालेश्वर मन्दिर स्थित है। शिप्रा नदी के तट पर स्थित उज्जैन प्राचीन काल में उज्जयिनी के नाम से विख्यात था। इसे अवन्तिकापुरी भी कहते थे। यह स्थान हिन्दु धर्म की 7 पवित्र पुरियों में से एक है।

 

ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने से मिलता है मोक्ष


मान्यता है कि जो भी व्यक्ति महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन करता है, उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। ज्योतिष में इसका विशेष महत्व है। इसी के साथ ही श्री महाकालेश्वर मन्दिर के गर्भगृह में माता पार्वती, भगवान गणेश और कार्तिकेय की मनमोहक मूर्तियाँ विराजीत हैं। गर्भगृह के सामने विशाल कक्ष में नन्दी की प्रतिमा विराजित है। नन्दी हॉल के पीछे गणपति मण्डपम और उसके पीछे कार्तिकेय मण्डपम में प्रतिदिन सैकड़ों श्रद्धालु भगवान के दर्शन और शिव आराधना का पुण्य लाभ लेते हैं।


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें