गुरुवार, 13 फ़रवरी 2020

महाकालेश्वर मन्दिर में श्री चन्द्रमौलेश्वर के पूजन के साथ प्रारम्भ हुआ 9 दिवसीय महा शिवरात्रि उत्सव

उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मन्दिर में नव दिवसीय महाशिवरात्रि पर्व के पहले दिन नैवेद्य कक्ष में चन्द्रमौलेश्वर भगवान की पूजा और कोटितीर्थ पर स्थित श्री कोटेश्वर महादेव का पूजन अर्चन किया गया। इसके पश्चात् मन्दिर के गर्भ गृह में महाकालेश्वर का मुख्य पुजारी पण्डित घनश्याम शर्मा के आचार्यत्व में 11 ब्राह्मणों के द्वारा रुद्राभिषेक किया गया। अपराहन 3 बजे पूजन के पश्चात् भगवान महाकालेश्वर को नवीन वस्त्र धारण कर शृङ्गार किया गया।
श्री महाकालेश्वर के पहले दिन के श्रंगार दर्शन 

महाकालेश्वर मन्दिर परिसर में ही कोटितीर्थ कुण्ड के पास स्थित श्री कोटेश्वर महादेव का पण्डितों द्वारा पूजन और आरती विधिविधान पूर्वक की गयी। कोटेश्वर महादेव के पूजन के बाद भगवान महाकालेश्वर का अभिषेक किया गया। इसके पश्चात् भगवान का मनमोहक शृङ्गार किया गया। भगवान कोटेश्वर और महाकालेश्वर महादेव को नये वस्त्र, आभूषण धारण कराये गये। भगवान महा कालेश्वर के दर्शन के लिये देशी-विदेशी भक्तों का तांता लगा रहा। कतारबद्ध होकर भक्तों ने अपने आराध्य के दर्शन किये। शाम के समय महाकाल मन्दिर परिसर में पण्डित रमेश कानडकर द्वारा भगवान का नारदीय कीर्तन किया गया।मन्दिर के प्रशासक एस. एस. रावत ने बताया महाशिवरात्री के 9 दिनों तक पहले कोटेश्वर महादेव के पूजन के पश्चात् भगवान महाकालेश्वर का अभिषेक और पूजन होगा।

महाशिवरात्रि पर त्रयोदशी के साथ चतुर्दशी का संयोग


उज्जैन के विश्व प्रसिद्ध महाकालेश्वर मन्दिर में वर्ष में 12 शिवरात्रियां मनायी जाती हैं। इनमें से फाल्गुन कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी की शिवरात्रि महाशिवरात्रि के रूप में मनायी जाती है। संहार शक्ति और तमो गुण के अधिष्ठाता शिव की आराधना की यह सर्वश्रेष्ठ रात्रि है। इस बार की महाशिवरात्रि पर त्रयोदशी के साथ चतुर्दशी का संयोग मन्दिर में होने वाली चारों प्रहर की पूजा को खास बना रहा है। महाशिवरात्रि  को अनेक आध्यात्मिक शक्तियाँ जाग्रत होंगी जो भक्तों के मनोरथों को पूर्ण करेंगी।


शीघ्र दर्शन पाने को खुले 4 टिकट काउन्टर


महाशिवरात्री पर्व पर देश-विदेश से भगवान महाकालेश्वर के दर्शन के लिये रहे श्रद्धालुओं की सुविधा के लिये मन्दिर प्रशासन ने उज्जैन के हरसिद्धि चौराहे पर 4 काउन्टर लगाये हैं। इन काउन्टरों से दर्शनार्थियों को मन्दिर में शीघ्र दर्शन करने के लिये 250 रुपये का एक दर्शन टिकट मिलेगा।
मन्दिर प्रशासन द्वारा इस शीघ्र दर्शन पास के 3 काउन्टर जयसिंह पुरा रोड पर और एक काउन्टर हरसिद्धि चौराहा के निकट लगाया गया है। मन्दिर प्रशासक एस.एस. रावत ने बताया कि सामान्य दर्शनार्थी, शीघ्र दर्शन टिकट और पास वाले दर्शनार्थी महाकालेश्वर मन्दिर में हरसिद्धि चौराहा से कतार से प्रवेश करेंगे। 250 रुपये की टिकट और पासधारी भस्मारती द्वार नम्बर 4 से प्रवेश करेंगे। जबकि सामान्य दर्शनार्थी हरसिद्धि चौराहा से बड़ा गणेश के सामने से होते हुये पुलिस चौकी से होकर मन्दिर के 6 नम्बर द्वार से दर्शन करेंगे।


श्रद्धालुओं की चरण पादुका के लिये बना काउन्टर


महाकालेश्वर मन्दिर में दर्शन के लिये रहे भक्तों की सुविधा को ध्यान में रखते हुये उनकी चरण पादुकाओं के लिये काउन्टर बनाये गये हैं। हरसिद्धि मन्दिर के पास बने काउन्टर पर श्रद्धालु अपनी चरण पादुका सुरक्षित रखकर वहाँ बैठे मन्दिर सेवक से टोकन प्राप्त करेंगे। दर्शन करने के बाद श्रद्धालु उनकी चरण पादुकायें निर्गम के पास शंख चौराहे के सामने बने काउन्टर पर टोकन देकर प्राप्त कर सकते हैं।


उज्जैन से काशी के बीच  21 फरवरी से  चलेगी महाकाल एक्सप्रेस


महाकालेश्वर मन्दिर जाने श्रद्धालुओं के लिये अब उज्जैन से काशी के बीच सीधी महाकाल एक्सप्रेस के नाम से ट्रेन 21 फरवरी से प्रारम्भ की जायेगी। महाकालेश्वर मन्दिर दर्शन करने आये रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मन्दिर के पुजारी आशीष शर्मा की मांग पर डी. आर. एम. रेलवे को रेल सेवा शुरू करने के लिये कार्यवाही के निर्देश दिये हैं।


  



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें