बुधवार, 12 फ़रवरी 2020

महा शिवरात्रि पर्व पर भूतेश्वर महादेव वागम्बरी रँग की पोशाक धारण करेंगे

भगवान कृष्ण की लीलाभूमि मथुरा के सुप्रसिद्ध भूतेश्वर महादेव मन्दिर में 21 फरवरी को होने वाले महा शिवरात्रि पर्व की तैयारी जोरों से चल रही हैं। मन्दिर के महन्त डालचन्द गिरि महाराज द्वारा पर्व पर होने वाले महा अभिषेक और चार प्रहर की आरतियों की रूपरेखा तैयार कर ली गयी है। शिवरात्रि के अवसर के लिये मन्दिर को सजाया सँवारा जा रहा है। भगवान भूतेश्वर महादेव महा शिवरात्री पर चाँदी का मुकुट और वागम्बरी रँग की पोशाक धारण करेंगे।

भूतेश्वर महादेव, मथुरा 


मथुरा ही नहीं सम्पूर्ण बृज मण्डल के प्रतिष्ठित शिवालयों में से एक भूतेश्वर महादेव मन्दिर को शिव भक्तों के स्वागत के लिये सजाया जा रहा है। मन्दिर में भगवान भूतेश्वर महादेव के सामने बरामदे में विराजित नन्दी को भी नयी रंगत दी जा रही है मन्दिर के महन्त डालचन्द गिरि महाराज ने बताया कि महा शिवरात्रि पर्व से एक दिन पूर्व फूलमाली और सज्जाकारों द्वारा कई रँग के गेंदा, गुलाब, माकरेट के फूलों से मन्दिर को सजाया जायेगा। पर्व से एक दिन पूर्व 20 फरवरी से ही कावड़ियों का काँवड़ लेकर मन्दिर में भगवान भूतेश्वर महादेव का गंगा और यमुना जल से अभिषेक करने के लिए आना शुरू हो जायेगा 20 फरवरी से 21 फरवरी की दोपहर 1 बजे तक निरन्तर भगवान का भक्तजन अभिषेक करेंगे। रात के समय भी भक्तों द्वारा भगवान भूतेश्वर महादेव का अभिषेक होता रहेगा। 21 फरवरी को दोपहर 1 बजे भगवान भूतेश्वर महादेव के शृङ्गार दर्शन भक्तों को होंगे। भगवान को चाँदी का मुकुट और वागम्बरी रँग की पोशाक धारण करायी जायेगी और भगवान भूतेश्वर महादेव का विशेष आकर्षक शृङ्गार किया जायेगा। शिवरात्रि के पर्व पर मन्दिर में भव्य फूल बंगला भी बनाया जायेगा। कुछ समय के बाद फिर से भगवान भूतेश्वर महादेव पर भक्तों द्वारा अभिषेक करना शुरू हो जायेगा। 21 फरवरी की रात को जागरण होगा। जागरण के दौरान पण्डित भगवान के नाम का जप करेंगे, भक्तजन भगवान भूतेश्वर महादेव की लीलाओं पर आधारित भजन प्रस्तुत करेंगे। महा शिवरात्रि पर 21 फरवरी की शाम से 22 फरवरी की सुबह तक 4 प्रहर की आरती होंगी। 22 फरवरी को खप्पर पूजन किया जायेगा।


भूतेश्वर महादेव मन्दिर में 4 प्रहर की आरती


21 फरवरी

शाम 06:30 बजे- प्रथम प्रहर की आरती
रात्रि 10:00 बजे - द्वितीय प्रहर की आरती
रात्रि 12:00 बजे - महा आरती
प्रात 4:00 बजे - मंगला आरती 




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें