बुधवार, 5 फ़रवरी 2020

मथुरा के गर्तेश्वर महादेव मन्दिर में मनेगा शिवरात्रि महोत्सव, होगा रुद्र यज्ञ


07 से 23 फरवरी तक होंगे विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम


मथुरा के गोविन्द नगर स्थित गर्तेश्वर महादेव मन्दिर में शिवरात्रि महोत्सव रुद्र यज्ञ का आयोजन 07 से 23 फरवरी तक किया जायेगा महोत्सव के अन्तर्गत रामचरित मानस पाठ, शिवार्चन, छप्पन भोग, फूल बँगला आदि कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे।

गर्तेश्वर महादेव, मथुरा 


मन्दिर के सेवायत बालकृष्ण शर्मा ने बताया कि महोत्सव का शुभारम्भ 07 फरवरी को प्रातः 10 बजे  भगवान गणेश के पूजन के साथ होगा। इसके पश्चात् रामचरित मानस का अखण्ड पाठ शुरू होगा। 08 फरवरी को शाम 07 बजे इस अखण्ड पाठ का समापन होगा। 09 फरवरी को शाम 04 बजे से दिनेशचन्द व्यास द्वारा शिव महापुराण कथा का दैनिक प्रवचन किया जायेगा, जिसका समापन 19 फरवरी शाम 6 बजे पुराण पूजन के साथ होगा। 20 फरवरी को प्रातः 10 बजे से शाम 05 बजे तक रूद्र यज्ञ किया जायेगा। महोत्सव का मुख्य आयोजन 21 फरवरी को होगा, जिसमें प्रातः 04 बजे भगवान गर्तेश्वर महादेव का अभिषेक, विशेष पूजन, शिवरात्रि व्रत तथा शाम 06 बजे से फूल बँगला के दर्शन होंगे। रात्रि 12 बजे रुद्राभिषेक जागरण का आयोजन किया जायेगा। 22 फरवरी को पुनः प्रातः 10 बजे से रामचरित मानस का अखण्ड पाठ प्रारम्भ होगा। इसी दिन शाम 6 बजे से छप्पन भोग के दर्शन और खप्पर भरण किया जायेगा। मन्दिर के सेवायत ने बताया कि 23 फरवरी को रामचरित मानस का अखण्ड पाठ पूर्ण होने पर प्रसाद वितरण के साथ महोत्सव सम्पन्न होगा।

क्यूँ कहा जाता है गर्तेश्वर महादेव -


स्थानीय मान्यता के अनुसार गोविन्द नगर विकसित होने के दौरान खुदायी में शिव लिङ्ग निकले थे। जमीन के अन्दर से निकले शिव लिङ्ग को भक्तजन  गर्तेश्वर महादेव के नाम से जानने लगे। गोविन्द नगर से कृष्ण जन्म भूमि की ओर जाने वाले मार्ग पर शिव लिङ्ग की स्थापना के कुछ समय बाद भव्य मन्दिर का निर्माण भक्तों द्वारा किया गया। गर्तेश्वर मन्दिर में सिर्फ गोविन्द नगर क्षेत्र के लोग भगवान गर्तेश्वर महादेव का पूजन करने आते हैं बल्कि मथुरा के अन्य क्षेत्रों से भी भक्तजन गर्तेश्वर मन्दिर में दर्शन और पूजन करने के लिये आते हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें