सोमवार, 24 फ़रवरी 2020

भगवान महाकालेश्वर ने पुष्प मुकुट धारण कर भक्तों को दर्शन दिये

मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्थित सुप्रसिद्ध 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक दक्षिण मुखी श्री महाकालेश्वर मन्दिर में विराजित भगवान श्री महाकाल ने महा शिवरात्रि के दूसरे दिन पुष्प मुकुट धारण कर भक्तों को दर्शन दिये। इसके पश्चात वर्ष में एक बार मध्यान के समय होने वाली भस्म आरती के दर्शन करके देशभर से आये भक्तों ने अपने को कृतार्थ किया।


                          फलों और फूलों से बने सेहरे में दर्शन देते भगवान महाकाल



भगवान महाकालेश्वर मन्दिर में महा शिवरात्रि के दूसरे दिन प्रात: 4 बजे भगवान महाकाल को पुष्पों से बना मुकुट यानि सेहरा धारण कराया गया। इसके बाद सेहरा दर्शन में बाबा महाकाल की आरती की गयी। मन्दिर के पुजारियों ने भगवान का सेहरा उतारने के बाद मध्यान 12 बजे से भगवान महाकाल की भस्म आरती प्रारम्भ की। वर्ष में एक बार मध्यान समय में होने वाली भगवान महाकाल की भस्मार्ती में बड़ी संख्या में भक्तजन शामिल हुये। भस्म आरती के दौरान महाकालेश्वर मन्दिर महादेव के जयकारों से गूँज उठा। भगवान महाकाल की भस्मार्ती के बाद मन्दिर समिति के द्वारा महाकाल प्रवचन हॉल में ब्राह्मणों को भोजन प्रसाद कराया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें